ईएमआई क्या होता है? EMI Full Form In Hindi

 EMI Full-Form – Equated monthly installment (मासिक किस्त)

नमस्कार दोस्तों स्वागत है जानकारी में दोस्तों अक्सर सभी के जीवन में बहुत सारि कठिनाईया आती है और अगर वो कठिनाई आर्थिक रूप से पैसो की हो तोह हमें अक्सर लोन लेना पड़ जाता है। तोह जब आप बैंक में लोन लेने के लिए जाते है तोह वह आपको लोन लेने से पहले एक शब्द सुनने को मिलता है और वो है EMI. आप लोगो में से बहुत कम लोगो को पता होगा होगा की EMI EMI Kya Hota Hai, EMI का फुल फॉर्म क्या होता है (EMI Full Form In Hindi) EMI के फायदे और नुकसान क्या-क्या है और इसी के साथ NO-Cost EMI क्या है? तोह इन्ही सभी सवालो के उप्पर हम बात करेंगे। तोह चलिए सुरु करते है…

EMI का फुल फॉर्म क्या होता है?

दोस्तों आपके मन में सवाल तोह जरूर आता होगा की क्या EMI का भी फुल फॉर्म होता है तोह “जी हाँ” इसका भी फुल फॉर्म होता। अब हम इसी से जुडी कई अलग-अलग फुल फॉर्म के बारे में देखेंगे।

EMI Full-Form – Equated Monthly installment

EMI Full Form in Hindi – मासिक किस्त

EMI Full Form in Banking – Equated Monthly installment

EMI Full Form in Marathi – समान मासिक हप्ता

EMI Full Form in Tamil – சமமான மாத தவணை

EMI Full Form in Gujarati – સમાન માસિક હપ્તા

EMI Full Form in Electronics – Electromagnetic interference

EMI Full Form in Medical – Emergency Medical information

EMI Full Form in Computer – Electromagnetic interference

EMI Kya Hota Hai?

दोस्तों EMI का पूरा नाम Equated Monthly installment. इसे हिंदी में सामान मासिक क़िस्त कहा जाता है। अगर कोई भी व्यक्ति किसी प्रकार का लोन लेता है तो उसे एक साथ ही सारा पैसा मिल जाता है। लेकिन जब भी आपको या किसी भी व्यक्ति को लोन चुकाना होता है तो इतना सारा पैसा एक साथ चुकाना आसान नहीं होता है। इसलिए आपकी इस परेशानी  करने के लिए बैंक आपको EMI का Option देती है। जिसके जरिये आप हर महीने भुगतान करके अपना लोन आसानी से चूका सकते है। EMI Full Form In Hindi
तो इससे आप समंझ गए होंगे की EMI एक लोन चुकाने का माध्यम है जिसमे आप महीने के हिसाब से लोन चूका सकते है। यदि आप कोई भी लोन लेते है या कोई भी सामान खरीदते है जैसे की Bike, Car आदि तो अगर आप एक  पैसा चूका नहीं पाते तो आपके लये क़िस्त बांध दी जाती है जो आपको हर महीने जमा करनी होती है। इसी राशि के भुगतान को EMI कहते है।
अगर आप EMI चुकाते है तो आपको मूल रूपये के आलावा ब्याज भी शामिल होता है मतलब जो आपको मासिक क़िस्त देनी होती है उसमे ब्याज के रूपये को भी जोड़ा जाता है।

EMI के लाभ:

1.  freedom to buy:
एक EMI विकल्प आपको Self से महंगी वस्तुओं को खरीदने की अनुमति देता है, भले ही आपके पास उस समय इसके लिए भुगतान करने के लिए धन न हो। उदाहरण के लिए, यदि आप एक Salaried व्यक्ति हैं, तो Lump sum repayment की तुलना में अपने Loan के साथ एक EMI विकल्प के साथ अपने सपनों का घर या कार खरीदना आसान है।
2. Affordability:
चाहे वह महंगा घरेलू सामान हो, वाहन, उपहार या यहां तक कि एक घर, EMI आपको कुछ भी और सब कुछ खरीदने में मदद कर सकता है। आपका lender कुल राशि को मासिक किश्तों में विभाजित करता है, और आप इसे प्रबंधनीय भागों में चुकाते हैं।
3. Easy on the wallet: 
चूंकि मासिक भुगतान पहले से ही ज्ञात है और credit period के दौरान Delivered किया जाता है, EMI विकल्प आपकी जेब में छेद नहीं करेगा, इसलिए आपको अन्य निवेश करने और कहीं और भी खर्च करने की अनुमति मिलती है।

EMI के नुकसान:

1. Longer debts: 
EMI को Loan अवधि को महत्वपूर्ण रूप से बढ़ाने के लिए डिज़ाइन किया गया है, जिससे आप लंबे समय तक Loan ले सकते हैं।
2. Higher repayments:  
मान लीजिए कि आप आज rs में एक स्मार्टफोन खरीदना चाहते हैं। 55,000. यदि आप ईएमआई का विकल्प चुनते हैं, तो आपको अपनी Repayment period के अंत में लागत से अधिक भुगतान करना होगा। अतिरिक्त राशि संस्था द्वारा अपने धन के उपयोग के लिए लगाए गए ब्याज को दर्शाती है। अपनी अग्रिम खरीद लागत से अधिक भुगतान करने से बचने के लिए, आप एक शून्य-ब्याज वाली EMI योजना की तलाश कर सकते हैं।
3. No prepayment: 
यहां तक कि अगर आपके पास कार्यकाल समाप्त होने से पहले Loan का भुगतान करने के लिए तैयार नकदी है, तो अधिकांश EMI योजनाएं आपसे मूल राशि के 2-3% के बीच Prepayment जुर्माना वसूल करेंगी।

No Cost EMI Kya Hota Hai?

अब हम बात करते है की No Cost EMI क्या होता है ?
 
दोस्तों जब भी आप कोई भी Product खरीदते है तो उस पर  No Cost EMI लिखा होता है इसका मतलब यह है की Product का जो भी Price है आपको उसी Price को EMI के द्वारा चुकाना है। लेकिन आपसे कोई Extra charge या Interest वसूला नहीं जायेगा। तोह इसी को  No Cost EMI कहा जाता है। लेकिन  No Cost EMI की सर्त यह है की आपके पास Credit Card होना चाहिए अगर आपके पास Credit Card नहीं है तोह आप  No Cost EMI का Option नहीं ले सकते है। Customer को इससे सबसे ज्यादा फायदा होता है क्युकी उसे  Extra charge नहीं देना होता है कम पैसे में ही उसका काम हो जाता है।
कंपनी का इससे ये फायदा है की कंपनी सिर्फ उन्ही प्रोडक्ट पर  No Cost EMI लगाती है जिनकी demand कम होती है मतलब वो प्रोडक्ट जो कम बिक रहे होते है। जिससे उसके प्रोडक्ट बिक जाते है और उन्हें फायदा होता है इससे बैंक को भी बहुत फायदा  होता है क्युकी उनके Credit Card इस्तेमाल में आते है और बैंक उन पर Bill Generate  और Bill Generate के साथ-साथ ही वो कुछ न कुछ चार्ज भी लगा देती है।

आज आपने क्या सीखा

आसा करते है आपको हमरी सब जानकारी पसंद आ रही होगी। इस पोस्ट के जरिये आपको पता चला होगा की EMI EMI Kya Hota Hai, EMI का फुल फॉर्म क्या होता है (EMI Full Form In Hindi) EMI के फायदे और नुकसान क्या-क्या है और इसी के साथ NO-Cost EMI क्या है?  अगर आपको हमारी जानकारी पसंद आयी हो तोह इस पोस्ट को अपने दोस्तों तक शेयर भी जरूर करे। ध्न्यवाद…

Other posts:

RTGS Full Form in Hindi – RTGS क्या होता है?

Leave a Comment