IFS Full Form In Hindi – IFS Kya Hai हिंदी में

Table Of Contents hide
2 विदेश सेवा)

 IFS Full Form – Indian Foreign Service (भारतीय

 विदेश सेवा)

नमस्कार दोस्तों एक बार फिर से स्वगात है आपका हमारी एक और नयी जानकरी में जिसमे आज हम बात करेंगे IFS के उप्पर की आखिर ये IFS Kya  Hai, IFS का पूरा नाम क्या है (IFS Full Form In Hindi) IFS बनने के लिए क्या क्वालिफिकेशन चाहिए, Age Criteria क्या होना चाहिए और Exam Pattern कैसा होता है? इन सभी सवालो के जवाब जानने के लिए बने रहिये हमारे साथ इस पोस्ट में लास्ट तक।

IFS Kya Hai?

(IFS Full Form In Hindi). IAS और IPS की तरह भारत की एक बहुत महत्वपूर्ण सर्विस है वह है IFS यानी Indian Foreign Service.  Indian Foreign Service यानी कि भारतीय विदेश सेवा भारतीय विदेश मंत्रालय के कामकाज को चलाने के लिए एक खास सर्विस है जो देश के बाहरी कामकाज को संभालती है। Civil Service Exam के अंतर्गत कई सर्विस आती है जैसे IAS, IPS, IRS, IFS सहित 24th सर्विस है इसका एग्जाम UPSC आयोजित करती है। IAS IPS और  IFS का एग्जाम एक ही होता है, IFSC officer को ही डिप्लोमेट्स और एंबेसडर कहते हैं।

IFS बनने के लिए क्या क्वालिफिकेशन चाहिए?

इस एग्जाम के लिए आपका ग्रेजुएशन पास होना चाहिए वह भी किसी भी सब्जेक्ट से मतलब अगर आप किसी भी सब्जेक्ट से मिनिमम मार्क्स से ग्रेजुएट है या आप ग्रेजुएशन लास्ट ईयर या लास्ट सेमेस्टर के स्टूडेंट है तो IFS का फॉर्म भर सकते हैं। अगर आपने B.A, B.Com, BSC, BBA, BCA इंजीनियरिंग, मेडिकल कोई भी डिग्री कोर्स किया हो तो आप सिविल सर्विस का एग्जाम देने के लिए एलिजिबल है। IFS, IRS आदि के लिए माइग्रेट हो सकते हैं जैसे नेपाल, भूटान, पाकिस्तान के  माइग्रेट  हो सकते हैं। IFS Full Form In Hindi

* Age Criteria:

General – 21-32 Year
OBC – 21-35 Year
SC/ST – 21-37 Year
अगर आप जम्मू और कश्मीर से हैं तो जनरल के लिए 21 से 34 साल है वहीं फिजिकल चैलेंज स्टूडेंट के लिए 10 साल छूट है और वह मैक्सिमम 42 साल तक फॉर्म भर सकते हैं।
जो डिसएबल है जैसे ब्लाइंड और डेफ है तो उनमें जनरल के लिए मैक्सिमम 30 साल ओबीसी के लिए 38 और एससी/एसटी के लिए 40 साल तक मैक्सिमम एज लिमिट है।
अगर बात करें सिलेक्शन की तो हर साल लगभग 10लाख छात्र फॉर्म अप्लाई करते हैं और प्रेलिस का एग्जाम में 5लाख पहुंचते हैं और क्वालीफाई करते हैं 15000 के करीब वही इंटरव्यू के लिए पहुंचते हैं 2800 और सिलेक्ट होते हैं लगभग 800 के करीब। IFS Full Form In Hindi

* Exam Pattern:

1. Preliminary Exam
2. Mains Exam
3. Interview

1. Prelims Exam:

Prelims एग्जाम में 2 पेपर होते हैं पहले जनरल स्टडीज और दूसरा C-Cet का होता है दोनों पेपर 200 नंबर के होते हैं दोनों पेपर में क्वेश्चन अलग-अलग होते हैं पहले मैं तो 100 क्वेश्चन और दूसरे में 80 क्वेश्चन होते हैं इस एग्जाम में आप हिंदी, इंग्लिश दोनों में से किसी एक लैंग्वेज में एग्जाम दे सकते हैं।

First Paper:

पहले पेपर में जनरल स्टडीज सवाल पूछा जाता है जैसे करंट अफेयर्स, हिस्ट्री, ज्योग्राफी, कॉन्स्टिट्यूशन, इकोनॉमिक्स, जनरल  साइंस वगैरा से सवाल पूछे जाते हैं।

Second Exam:

दूसरा पेपर यानी C-Cet क्वालीफाइंग पेपर है इसमें आपको 200 में 66 नंबर लाने हैं पहले पेपर आपका मेरिट बनाता है जिससे आप Mains एग्जाम के लिए क्वालीफाई कर पाते हैं। यह पेपर सीटेट का है इसमें बैंक, एसएससी जैसे क्वेश्चन होते हैं जैसे कंप्रीहेंशन, लॉजिकल रीजनिंग, डिसीजन मेकिंग आदि।

2. Mains Exam:

Mains एग्जाम में कुल 9 पेपर होते हैं टोटल मार्क्स 1750 नंबर का होता है 9 पेपर में से 7 पेपर पर ज्यादा ध्यान देना है क्योंकि मेरिट जो बनाई जाती है इन्हीं 7 पेपर से बनती है इसके अलावा दो पेपर क्वालीफाइंग होते हैं इसके मार्क्स काउंट नहीं होते हैं लेकिन आपको 33% नंबर लाना पड़ता है इसमें एक पेपर इंग्लिश का है और दूसरा लोकल लैंग्वेज का होता है मतलब दोनों ही लैंग्वेज के होते हैं लेकिन लैंग्वेज वही होगी जो संविधान की सूची में दर्ज है। IFS Full Form In Hindi

First Exam:

पहले पेपर में आता है General Essay इसके नाम से ही आपको पता चल रहा होगा कि आपको निबंध लिखना होगा जैसे सोशल ईसु, पॉलिटिक्स, योजनाओं एग्जाम में देखने पड़ते हैं दोनों ही 125 नंबर के होते हैं।

Second Exam:

Paper 2 मैं General Study का होता है जिसमें इंडियन हिस्ट्री एंड कल्चर वर्ल्ड जियोग्राफी और सोसाइटी कवर होता है।

Third Exam:

 
तीसरा पेपर में कॉन्स्टिट्यूशन, पॉलिटिक्स, सोशल जस्टिस और इंटरनेशनल रिलेशन आता है।

Fourth Exam:

4th पेपर में टेक्नोलॉजी, इकोनॉमिक्स डेवलपमेंट, बायोडायवर्सिटी, एनवायरमेंट, सिक्योरिटी एंड डिजास्टर मैनेजमेंट से सवाल पूछे जाते हैं।

Fifth Exam :

पेपर 5 में एथिक्स, इंटीग्रिटी एंड एप्टीट्यूड होता है।

Sixth & Seventh Exam:

6th और 7th पेपर यह ऑप्शनल पेपर होते हैं मतलब आपको जो भी सब्जेक्ट सिलेक्ट करना है आपको उसी का एग्जाम देना पड़ेगा यहां खास बात यह है इसमें 2 पेपर होते हैं जो कि 6th और 7th के होते हैं।IFS Full Form In Hindi 

आज आपने क्या सीखा

आसा करते है आपको हमारी सभी जानकरी पसंद आ रही होगी इस पोस्ट के माधियम से आपको सिखने को मिला IFS के उप्पर की आखिर ये IFS Kya  Hai, IFS का पूरा नाम क्या है (IFS Full Form In Hindi) IFS बनने के लिए क्या क्वालिफिकेशन चाहिए, Age Criteria क्या होना चाहिए और Exam Pattern कैसा होता हैअगर आपको हमारी ये जानकरी पसंद आयी हो तो इस पोस्ट को अपने दोस्तों और जानने वालो को शेयर जरूर करे। धन्यवाद…

DSLR Full Form In Hindi – DSLR Kya Hai हिंदी में? जरूर पढ़े 

Bhim Kya hai और इसके फायदे? BHIM Full Form In Hindi

VISA Full Form In Hindi – VISA Kya Hota Hai हिंदी में

Leave a Comment